Pages

Wednesday, 23 May 2018

यादो की नब्ज को मैंने टटोला बहुत ......

यादो की नब्ज को मैंने टटोला बहुत !
मैं कसूरवार नहीं, मैंने बोला  बहुत !!
कौन सही, कौन गलत। .....
बड़ा कठिन था तय कर पाना !!
मैंने खुद को धर्मकांटे में तोला बहुत !!

पी के तनहा 

Sunday, 25 September 2016

ख्वाहिशे ......

ख्वाहिशे
कुछ बड़ी हो गयी है अब
जो देने लगी है
स्थान, खुद से पहले
मेरी जरूरतों को
अब नही आती
वक़्त - बेवक़्त
मेरी पलको पे
कोई ख्वाब लेकर
क्योंकि
मालूम है उनको
कि पलको पे
आज भी
जाने कितने ख्वाब
संजोए बैठे है
खुद के पूरा होने की
ख्वाहिश लिए
गलत कहती है
ये दुनिया
कि ख्वाब सच होते है
जबकि सच ये है
कि जो सच हो जाये
वो ख्वाब नही होते
इन बेचारे ख्वाबो को
मंजिल कहाँ मिलती है
असल ज़िन्दगी तो
आज भी
जरूरतों से ही चलती है। .......


पी के ''तनहा''

Tuesday, 13 September 2016

हाँ ..... आदत सी हो गयी है आजकल

आदत सी हो गयी है
आजकल
हँसते हँसते रोने की
बिन ख्वाबो के सोने की
हाँ  .....
आदत सी हो गयी है
आजकल
गम को छुपाने की
खुद पे हंसने की
सबको हंसाने की
यूँ ही खुद से बतियाते
खुद से रूठ जाने की
हाँ  .....
आदत सी हो गयी है
आजकल
घुट घुट के जीने की
गम के आंसू पीने की
वक़्त के लड़कर
ज़ख्मो को सीने की
हाँ  .....
आदत सी हो गयी है
आजकल



पी के तनहा 

Sunday, 4 September 2016

सोचता हूँ, एक प्यारा सा ख्वाब हो जाऊ मैं .......

सोचता हूँ, एक प्यारा सा ख्वाब हो जाऊ मैं !
तेरे हर सवाल का, जवाब हो जाऊ मैं !!
दूर तलक चर्चे है तेरे, और तेरे शहर के !
सोचता हूँ, तेरे शहर का नवाब हो जाऊ मैं !!

पी के तनहा 

Wednesday, 31 August 2016

कुछ ख्वाहिशे......

एक नन्ही सी
जान के साथ
जन्म लेती है
कुछ ख्वाहिशे
फिर वक़्त और
उम्र के साथ
बढ़ती जाती है
निरंतर.....
टूटने लगती है
लेकिन
समय से पहले
जब नही होता
सामर्थ्य, इन्हें पूरा करने का
खुद टूटने के साथ
तोड़ देती है उसको भी
जुडी होती है
जिसके साथ
जिससे...
यूँ ही मगर
समझाना पड़ता है
खुद को
कि नही होती
पूरी..
एक मुफ़लिस की ख्वाहिशे
ना ही हक है उसको
इन्हें संजोने का
कभी कभी नही होता
एहसास उसको
खुद के होने का
जबकि अच्छे से
जानता है मतलब
कुछ पाने का , कुछ खोने का
जानता है ये भी
कि होता है
वजूद मुस्कुराने से ज्यादा
रोने का
जी हाँ ! रोने का .....
पी के तनहा